Sunday, September 12, 2010

मःती कोठेकी

this is my friend story.


बात उन िदनों की हैजब मुंबई में दंगेचल रहेथे। पुणेमें भी कुछ िदनों के िलए बस
सिवर्स बंद थी।
मैं उन िदनों पुणेके िलए एक बस में चली। बस में मेरी बगल में उषा नाम की आंटी
बैठी थीं। उषा आंटी सेमेरी अच्छी जान पहचान हो गई।
बस बड़ी धीरेसफर कर रही थी। शाम के 2 बजेबस ख़राब हो गई। बस वालेनेकहा
अब बस नहींचलेगी। पुणे४० िकमी दरू था। बस में मैं और आंटी ही अकेली औरतें
थीं। मैं घबरा रही थी बस में कुछ गुण्डेटाइप लोग भी थेजो राःतेभर हमें गंदेगंदे
इशारेकर रहेथे।
आंटी मुझसेबोली- मैंनेटैक्सी बुलाई है, तुम पुणेतक साथ चल सकती हो लेिकन
उसके आगेराःतेबंद हैं। मैं खुश हो गयी, मैंनेकहा- आंटी मैं आपके साथ रुक
जाऊंगी।
आंटी बोली ठीक हैलेिकन मैं तुम्हें कुछ बताना चाहती हूँ। आटं ी नेकहा- बेटी, मैं एक
कोठेकी मालिकन हूँमेरा कोठा बुधवार पेठ में हैवहाँपर ५० -६० लड़िकयांधंधा
करती हैं। पूरेिदन रात उनकी चुदाई होती है। पर यह मेरा वादा हैिक अगर तुम मेरे
साथ चलोगी तो तुम्हारी मज�� के िबना मैं तुम्हारी चुदाई तो नहींहोनेदंगू ी लेिकन
तुम्हारी चूची और चूतड़ दब सकतेहैं, मतलब तुम्हारी जवानी लुटेगी तो नहींलेिकन
मेरेगुंडेमःती करनेसेबाज़ नही आयेंगे। बाकी अगर कहींऔर रूकती हो तो जवानी
लुट भी जायेगी और ब्लूिफ़ल्म अलग सेबन जायेगी, मुझेपुणेका सब पता है, वैसे
तुम शादीशुदा हो कोठेपेछेड़छाड़ सेमजा ही आएगा।
आंटी की बात सुन मैं डर गई लेिकन मेरी चूत में खुजली सी भी मची िक कोठेकी
मःती में मज़ा तो बहुत आएगा।
मैंने- कहा आंटी, यहाँचूत तो चुदेगी ही, जान का भी खतरा है। यह बस के ही लोग
मुझेचौद डालेंगे, सब गुण्डेटाइप लग रहेहैं। आप लेचलो, कोठेपेही सही।
थोड़ी देर में आंटी की टैक्सी आ गई। हम उसमें बैठ गए। आंटी नेपुणेसे५-६
िकलोमीटर पहलेही मुझेबुरका पहना िदया और ख़ुद भी बुरका पहन िलया।
शाम ४ बजेहम बुधवार पेठ में आंटी के कोठेपेथे। कोठेपेहमारेघुसतेही एक
मुःटंडेनेमेरेचूतड़ पीछेसेदबा िदए और बोला- मौसी माल तो बड़ा तगड़ा लायी हो,
आज्ञा हो तो नंगा कर दँूकुितया को।
मौसी नेकहा- हरामी हाथ मत लगाइयो, मेहमान है, चल बेटी अंदर चलें।
अंदर रंिडयाँअ��र्नग्न खड़ी थी कुछ पेटीकोट और आधेसेज्यादा खुलेब्लाऊज़ पहने
थी.
मौसी मुझेचौंकतेदेख कर बोली- अरेचौंक क्यों रही हैयह कोठा है, रात को
िदखाउंगी कैसेयह रंिडयाँ६-६ लंड खाती हैं. आ चल थोड़ा ृी हो लें। तुझेभी तो थोड़ी
रंडीबाजी िसखा दँगू ी, तािक तुझेयाद तो रहेकी कभी कोठेकी सैर भी की थी। घबरा
मत तेरी चूत तभी चुदेगी जब तूचाहेगी लेिकन मद�� के लंड तो पकड़ ही सकती है
और चूची चूतड़ तो दबवा ही सकती है। रोज रोज एस मःती तो नही िमलेगी।
परमानेंट रंडी बननेमें तो ूॉब्लम हैं लेिकन एक िदन रंडीबाजी करनेमें तो मज़ा ही
मज़ा है।
मौसी की बात मुझेकुछ सही लगी। मैं और आंटी अब आंटी के कमरेमें आ गई थी।
कमरा फाइव ःटार जैसा था। आंटी नेअपनी साड़ी ब्लाउज उतार िदया। आंटी की
चूिचयांपपीतेजैसेलटक रहींथी, आंटी िसफ़र् पेटीकोट पहनेथीं। आंटी नेघंटी बजाई,
एक मुःटंडा अंदर आया, आंटी बोली- कालूजरा पानी-वाणी िपला !
आंटी मुझेदेखकर मुःकरा कर बोली- शरमा रही है, अभी तुझेनंगा कराती हूँ, कोठे
की मःती तो चख ले।
मैंनेकहा- नहींमौसी, मुझेनंगा नही होना !
मौसी मुःकराईं, बोली- हमारा वादा केवल तेरी चुदाई न होनेतक का है।
कालूपानी लेकर आ गया। हम दोनों को बड़ेप्यार सेउसनेपानी िपलाया. मौसी
बोली- अबेकालूतेरी मौसी नंगी खड़ी हैं और साली यह हरामन कपड़ेपहनेहुए है,
चल जरा इसेनंगा तो कर।
कालूनेएक झटके में मेरी साड़ी खींच दी और मेरा ब्लाउज हाथ सेखींच कर फाड़
िदया। मेरी ॄा आधी लटक गई िजसेउसनेएक झटके में उतार िदया। अब मैं
पेटीकोट में थी, यह सब कुछ सेकंड में ही हो गया मैं िवरोध भी नहींकर पाई। कालू
पेटीकोट भी फाड़नेवाला था लेिकन मौसी नेइशारेसेउसेबाहर भेज िदया।
मेरी संतरेजैसी चुिचयों पर मौसी नेहाथ िफराकर कहा- माल तो बड़ा तगड़ा हैं तेरा !
एक रात के दस हज़ार तो आराम सेलगेंगे, बोल चुदना हैक्या पूरेदस तेरे ! मेरी चूत
में हलचल हो रही थी।
मौसी नेमुझेिबःतर पर िलटा िदया और ख़ुद भी बगल में लेट गयीं, कहा- तुझेमैं
कोठेकी मःती करवाती हूँ, करके देख, कैसेरंिडयांलोड़ेसेखेलती हैं, मद�� की मुठ
कैसेमारती हैं, लंड चूसती हैं तुझेिसखाती हूँ। चुदनेका मन हो तो बताना चुदाई भी
करवा दँगू ी गांड और चूत दोनों की। फुल मःती कर आज रात िजन्दगी भर याद
रहेगी।
मौसी की बातों सेमुझेमःती आनेलगी। मेरा मन मुःटंडौं के सामनेनंगी होनेका
करनेलगा, मेरी चूत सेभी पानी िरसनेलगा था।
मौसी बोली- अब तूमेरेकोठेकी रांड है, तेरी चूत और गांड तेरी मज़�� पर छोड़ती हूँ,
बाकी तेरेको आज की रात के िलयेरंडी बनाती हूँ, समझी! रंडीबाजी का मतलब होता
हैनग्न अदायें िदखाना, नंगी चूिचयांकर के कःटमर सेदबवानी, लंड चूसना, लोड़ों
को हाथों सेमसलना और लंड की मुठ मारनी, पूरी नंगी होकर चूत चुसवानी, बाकी
बची चूत और गांड की चुदाई तो वह सब सेआिख़र में आती है।
५ बज रहेथे, मौसी नेएक चुन्नी मेरेनग्न दधू ों पेडाल दी और बोली- चल तेरा
रंिडयों जसै ा िसंगार करवाती हूँ। मौसी मुझेिसंगार रूम में लेजानेलगींराःतेमें
मौसी के गुंडेघूम रहेथे। मेरी नग्न चूिचयांसब घूर घूर कर देख रहेथे।
िसंगार रूम का सीन बड़ा आकषर्क था। चार -पाँच रंिडयाँशीशेके सामनेमेक अप
कर रहींथी, सभी टोपलेस थीं, कुछ नंगी होकर चूत में बीम लगा रहींथीं। कुछ गुंडे
टाइप लोग कमरेमें घूम रहेथे। एक दो गुंडेरांडो की चूिचयांमसल रहेथे। सीन बड़ा
ही सेक्सी था।
मौसी मुझेदेखकर मुःकराईं बोली- चल तूभी नंगी हो ! तेरा माल भी तो देखें जरा
हम !
मौसी नेकहा- चल पेटीकोट उतार ! शरमा नहीं ! रंडी बन जा आज रात के िलए !
अगर मःती के साथ करोगी तो बहुत मजा आएगा, देख सब राँडेनंगी मःता रहींहैं।
मेरी चुिचयाँतो नग्न थी हीं, मैंनेशरमातेहुयेअपना पेटीकोट भी उतार िदया। अब मैं
िसफ़र् चड्डी में थी। चड्डी उतारनेमें मुझेशमर् आ रही थी। मौसी नेसीटी बजा कर
कालूको इशारा िकया। कालूनेपीछेसेआकर मेरी चूिचयांकस कर मसल दी। इस
बीच राजूमुःटंडेनेआगेसेमेरी चड्डी उतार दी, अब मैं पूरी नंगी थी।
मौसी नेमेरी झांटो वाली चूत की तरफ़ देख कर कहा- अरेतुम साली औरतें पित को
भी मःती ठीक सेनहींदेती क्या काला जंगल उगा रखा है ! मौसी नेएक रंडी को
इशारा कर कहा- जरा झांटेसाफ़ करनेवाली बीम तो ला !
मौसी नेमेरी चूत पर बीम लगा दी और मुझेएक ग��ेपेबठनेको कहा और बोली-
पाँच िमनट में तेरी झांटेसाफ़ हो जाएँगी।
अब मैं नंगी बैठी कोठेके नज़ारेदेख रही थी, शमर् आ रही थी, गुंडेबार बार गंदेइशारे
कर रहेथे। पाँच िमनट बाद मोनी नाम की रांड नेमेरी चूत गीलेकपड़ेऔर पानी से
साफ़ कर दी, अब मेरी िचकनी चूत चमचमा रही थी। मेरी शमर् भी धीरेधीरेकम हो
रही थी।
मौसी नेकहा- ६ बज गए हैं, धंधेका टाइम हो रहा है, मैं जरा धंधेको देखती हूँ, तू
जरा कोठेपेघूम और रंिडयों की तरह मःता ! तेरेसाथ मोनी नाम की रंडी की ड्यूटी
लगा देती हूँ। ८ बजेतेरेऊपर भी एक-दो कःटमर चढ़वाती हूँ।
मौसी की बातों और कोठेके नजारों सेमेरी चुदनेकी इच्छा बढती जा रही थी। मोनी
नेमुझेबताया- तूमेहमान हैइसिलए मौसी इतनेप्यार सेबात कर रहींहैं वरना
िजस रंडी सेगुःसा हो जाती हैं, पूरी रात उसकी गांड और चूत अपनेमुःटंडों से
चुदवाती हैं और पीटती अलग हैं सब मुःटंडों के लंड बहुत मोटेऔर लंबेहैं। सारे
मुःटंडेकु��ेकी तरह मौसी के आगेदमु िहलातेहैं, मौसी के एक इशारेपेयह जेल
पहुँच जातेहैं इतनी तगड़ी पहुँच हैमौसी की। चल तुझेकोठेकी सैर कराती हूँ, धंधा
भी शुरू हो चुका है। पेटीकोट और ब्लाऊज़ डाल ले !
मैंनेसाइड में पड़ा हुआ एक पेटीकोट और ब्लाऊज़ पहन िलये। ब्लाऊज़ में एक ही
हूक था, चुिचयाँआधी सेजयादा खलु ी थी, थोड़ा िहलनेपेिनप्पल भी िदखनेलगते
थे, पेटीकोट नािभ के काफ़ी नीचेबंधा थे। मोनी भी एक िमनी ःकटर् और मेरी तरह
ब्लाऊज़ पहनेथी।
मैं िबल्कुल धंधेवािलयों जैसेलग रही थी। मौसी नेमेरी चूत पेजो बीम लगायी थी
उससेमेरी चूत में लंड खानेकी इच्छा भी बढ़ रही थी. मैंनेजब मोनी को यह बताया
तो मोनी मुःकराई, बोली- मौसी तुझेचुदवा कर ही जानेदेंगी ! बड़ी गुरु हैं मौसी !
मोनी मुझेपहलेडांस रूम में लेआई। यहींसेकःटमर अंदर आतेथे। डांस रूम काफी
बड़ा था। मौसी वहाँग��ी पर बैठी हुईं थीं, मुःटंडेचारों तरफ़ टहल रहेथे। ५-६
लड़िकयाँअधर्नंगी होकर डांस कर रहींथी। साइड में मेरी जैसेसेस पहने१०-१०, २०-
२० के झंुड में रंिडयांबैठी हुईं थी. नाचनेवाली लड़िकयाँडांस कम रंडीबाजी ज्यादा
कर रहींथी वो अपना लहंगा बार बार उठा रहींथी और बार बार अपनी चूत िदखा रहीं
थी।
मुःटंडों सेबीच बीच में कुछ सेकंड्स के िलए अपनी चूिचयांमसलवा रही थीं। बीच
बीच में एक दो गण्ु्डेआकर रंिडयों की ब्लाऊज़ और टॉप उठाकर उनकी चंुिचयाँखोल
देतेथे, िजसेवो दबु ारा ढक लेती थीं।
करीब १०-२० माहक वहाँडांस देख रहेथेऔर वो बीच बीच में नोट भी फें क देतेथे।
मोनी नेमुझेबताया- यहाँतीन रेट में लड़िकयाँिबकती हैं, वो जो घिटया सी िदख
रहींहैं आटं ी टाइप उनके रेट १०० से३०० रुपए एक तक घंटेहैं, दसू री साइड वािलयों
के ५०० से१००० रूपए तक एक घंटेका हैं। मौसी के पास जो बैठींहैं उनके रेट मौसी
बताती हैं, सब १००० सेऊपर वाली हैं।
मौसी हर कःटमर का पूरा ध्यान रखती हैं, रंडी अगर मःती नहींदेती तो उसकी खाट
खड़ी कर देती हैं। मौसी का कहना है- चूिचयांमसलवानेके िलए और चूत चुदवानेके
िलए है, कःटमर को जम कर मज़ा दो उसका लंड चाटो और चूसो एक घंटेमैं अपना
दीवाना बना दो गांड भी मरवाओ उससे !
अगर िकसी भी रांड की िशकायत आती हैिक उसनेचूत चुदवानेमें नखरेकरेहैं तो
उसकी खाल तो जलाती ही हैं साथ ही साथ १०-१० गुंडों सेगांड और चूत भी चुदवाती
हैं।
मौसी नेएक सेएक नखरेवाली रंिडयों को ठीक कर िदया है। वो जो जली हुई िदख
रही हैन उसनेएक सफ़ेद दाग वालेनेताजी का लंड चूसनेसेमना कर िदया था,
मौसी नेउसेजला िदया, अब सब करवाती है।
मौसी बड़ी खतरनाक हैं, लेिकन अगर कोई दारू में टुन्न आता हैया अकड़ िदखाता है
तो उसके नोट भी रख लेती हैं और लंड झड़वा के धक्के देकर भगा देती हैं।
मोनी नेबताया उसके रेट ३०००-४००० के बीच लगतेहैं और वो सब करवाती है
केवल गांड छोड़कर, गांड मौसी के ही कहनेपेचुदवाती हूँअब तक ४-५ बार ही कुछ
बड़ेलोगो सेगांड मरवाई है। मुझेधंधा करतेहुए ६ माह हो गए। मेरा ूेमी बेच कर
गया था मुझे, चल आ मौसी के पास बैठतेहैदेख कैसेरंिडयांिबकती हैं !!!!!

शाम के सात बज रहेथे, मौसी नेमुझेबगल में बुला कर िबठा िलया, मैं मौसी के
पास जाकर बैठ गई। रंिडयों का नाच चालूथा, कोठेपर भीड़ बढ़ गई थी। मौसी बोली,
"३० लड़िकयाँचुदनेजा चुकी हैं। २५-३० और बच रही हैं, आठ बजेतक सब िबक
जाएँगी। उसके बाद तो दसू रा राउंड शुरू हो जाएगा, नाच-वािलयाँ१० बजेतक नाचती
हैं, उसके बाद इनको चुदवाती हूँ।"
तभी एक माहक आकार सोना नाम की रंडी का दाम पूछनेलगा। सोना, मौसी के पीछे
ही बैठी थी। मौसी बोली, "५००० हैं, चूत और गाँड दोनों चुदवाएगी।"
"३००० दँगू ा, पुराना माहक हूँ।"
"हरामी तुझेबहुत अच्छी तरह जानती हूँ, ८ इंच लंबा लंड हैतेरा, गाँड फाड़ कर रख
देता है। िपछली बार रेशमा को चोदा था साली एक घंटेतक उठ नहींपाई थी, चल
४००० देऔर लेजा इसे। सोना, गाण्ड में बीम लगा िलयो... वरना रोएगी, यह बहुत
बड़ा चोदूहै। और तूजरा आदमी की तरह चोिदयो, वरना घुसनेनही दँगू ी कोठेपर...
हरामी। सोना के अभी मुझेदो राउंड और करानेहैं"
मौसी मुःकुराई, माहक भी मुःकुरातेहुई सोना को लेकर चला गया। सःती रंिडयों (
१०० से३०० वािलयों) की िबबी राजूमुःटंडा देख रहा था। मौसी नेउसेबुला कर पूछा
- "िकतनेजमा हो गए?"
"सःती वािलयों में से२० धंधेपेबैठी हैं मौसी। ३० मद�� को िनपटा चुकी हैं, १५ से
चुदवा रहींहैं। ५ उधर बैठी हुई हैं, २ बीमार हैं। कुल १४,००० रुपयेजमा हुए हैं" - राजू
नेजानकारी दी।
"टॉप पर कौन चल रही है?"
"अगं रू ी टॉप पर है, २ बार चुदवा चुकी, १ को िनपटानेमें लगी हुई है। १२०० रुपयेउसी
के नाम के हैं।"
"ठीक है, आज ३०००० सेकम की रक़म जमा नहींहोनी चािहए। जा धंधा देख।"
पप्पू५०० से१००० वािलयों की दलाली कर रहा था। मौसी नेउस सेपूछा, "धंधा कैसा
चल रहा है?"
"मौसी, २४ लौंिडयाँधंधेपेहैं, २० बार िबक चुकी हैं, १९ अन्दर लगवा रही हैं, ५ चुदने
का इंतज़ार कर रही हैं। कुल १६००० रूपयेजमा हुए हैं।" - पप्पूनेउ��र िदया।
मौसी नेनज़र लड़िकयों की तरफ़ घुमा कर देखी और कहा, "यह रेखा और सीमा
आजकल कम िबक रही हैं। कल भी सािलयों नेएक-एक बार ही चुदवाया था। कम से
कम साली ३-४ बार तो चुदें। येरंडीबाज़ी ठीक सेनहींकर रही हैं। कल सेसःती
वािलयों में बैठाती हूँ, जब िरक्शेवालेचोदेंगेतब मज़ा आएगा इन्हें। तूआज ५००००
रुपयेकलेक्ट कर िदयो, कुि��यों को चाहे८-८ बार चुदवाना पड़े।"
मौसी के पास बैठी १२ रंिडयों में से८ चुदनेजा चुकी थीं। मुझेिमला कर ४ रंिडयाँ
बची थींतभी वहाँदो लड़के मौसी की तरफ़ आए और मुझेदेख कर बोले- "मौसी
नया माल लग रहा है, िकतनेमें दोगी?"
"तूबता िकतनेमें चोदेगा? पुराना माहक है" - मौसी बोली
"दो-दो हज़ार लेलेना, इसके और मोनी के!"
"चोदूचोद तो बहुत चुका, लेिकन माल की समझ नहींहैतुझे, इसके संतरेदेख ज़रा"
- यह कहकर मौसी नेमेरेब्लाउज़ का एकमाऽ हुक खोल िदया।
मेरी गोल-गोल चूिचयाँफरफरा कर िनकल पड़ीं। मैं एक दम सेशमार् गई, मैंनेदोनों
चूिचयाँअपनेहाथों सेिछपा लीं। मौसी डपट कर बोली - "हरािमन, ज्यादा नखरे
िकए तो यहींसबके सामनेचुदवा दँगू ी मुःटंडों से, चल हाथ हटा और मौसी नेमेरे
हाथ को हटा िदया।"
अब मेरी चूिचयों के दशर्न वो लड़के कर रहेथे, लड़कों के मुँह सेिनकल गया - "मौसी
वाह, इसके संतरेतो बड़ेलाजवाब हैं।"
मेरी चूत में खुजली बढ़ गई थी, मेरा मन अब चुदनेका ज़ोरों सेकरनेलगा था। मैं
मन ही मन सोच रही थी की मौसी मुझेचुदनेभेज देइन लड़कों के साथ। लड़के बोले
- "मौसी हम तो ५००० रुपयेलायेहैं, इसेदेदो दो घंटेको ५००० में। हम-दोनों एक से
ही काम चला लेंगे।"
मौसी बोली, "१०००० रुपयेसेकम में नहींउठेगी। नयी रंडी है, तूकल चोद िलयो
इसे। तेरेबाप नेतो २०-२०,००० में रंिडयों को चोदा है, ज़रा चूिचयाँमसल कर तो देख
इसकी! ख़ुद ही कहेगा भाव अिधक नहींहै।"
मौसी नेमुझसेकहा - "जरा खड़ी हो कर चूची मसलवानेका मज़ा ले, पुरानेमाहक हैं,
यहाँकी हर बिढ़या रंडी चोद चुके हैं।"
मैं खड़ी हो गई, मेरी चूत पानी-पानी हो रही थी। एक लड़के नेमेरी दोनों चूिचयों को
हाथ में पकड़ कर कस-कस कर मसल िदया। मेरेमुँह सेआह... ऊह... की आवाज़
िनकल गई, इसके बाद वहाँखड़ेमुःटंडेनेउसेहटा िदया। अब दसू रेवालेनेएक हाथ
सेमेरी एक चूची मसली और दसू रेसेमेरी दसू री चूची की घंुडी कस कर घुमा दी, मेरी
चूत पानी-पानी हो गई।
मौसी नेमुझेहाथ पकड़ कर नीचेबैठा िलया। लौण्डों के लंड टनक चुके थे, मौसी ने
बगल में बैठी दोनों लड़िकयाँउनकी तरफ़ बढ़ा दींऔर बोली, "कल तेरेिलए इसेबुक
करती हूँ, अभी तूइन दोनों की चूत फाड़" - और मौसी नेवेदो रंिडयाँउन्हें सौंप दीं।
अब मैं और मोनी, दो ही लड़िकयाँमौसी के पास रह गईं थीं। मौसी मेरी तरफ़ देखते
हुए मुःकुरा कर बोली, "मज़ा आया? देख तेरी चूिचयाँिदखा कर दोनों २-२ हज़ार में
उठा दीं, वरना साली आज १००० में भी नही उठ रहींथीं।"
मैंनेकहा - "मौसी मःती तो बहुत आई।
डर नही मज़ेकर, अभी तो तूनेलौड़ा पकड़ कर भी नही देखा। फुल्ल मःती कर। चूत
और गाँड तो तेरी तभी चुदेगी, जब तूख़ुद कहेगी िक मौसी मुझेचुदवाओ।" - मौसी ने
मेरेचूतङों पेहाथ िफरा कर कहा
मौसी बोली - "६ बजेसेधंधा शुरू करवाती हूँ। पहला राउंड ६-९ चलता है, दसू रा ९-११
चलता है, तीसरा ११-२ चलता है। सःती वािलयों को छोड़, बाकी सब १-१, २-२ घंटेके
िलयेउठतींहैं। कुछ रंिडयाँएक राउंड में २-३ बार भी चुद लेती हैं, वरना एक-एक बार
तो सबको चुदना ही पड़ता है। अगर कोई रात भर में तीन बार नहींचुदती हैं तो
उसको िदन में पेलवाती हूँ। दसू रेराउंड में ७-८ रंिडयों को नंगा करा के मुःटंडों और
माहकों की गोद में िबठाती हूँ। मुःटंडेऔर माहक उनकी चूिचयों और चूत की
मसलाई करतेहैं और रंिडयाँउनके लौड़ेिनकाल कर मुट्ठ मारतींहैं, िजन्हें दसू रे
माहक बड़ेमःत होकर देखतेहैं। आज मोनी और तुझेमाहकों की गोद में उनके लौ़ड़ों
पर िबठाऊँगी। जब वो तेरी चूिचयाँऔर चूत मसलेंगे, तो तुझेबड़ा मज़ा आएगा।
आधेघंटेमें यह मसलाई वाला शो कराती हूँ, तािक माहकों के लंड टनटनाएँऔर
सारी रंिडयाँजल्दी-जल्दी िबकें ।"
मौसी की बात सुनकर मेरी चूत बुरी तरह सनसना गई और मेरी चूत में सेपानी
िनकल गया। मौसी बोली, "अब तूएक काम कर, जा ज़रा कोठा घूम कर आ..." मोनी
की तरफ़ इशारा करतेहुई मौसी नेकहा, "मोनी, अब तो कोठेपेचुदाई का माहौल
होगा। ज़रा हमारी नई रंडी रानी को कोठेकी चुदाई तो िदखा के ला।" मेरी तरफ़
देखतेहुआ मौसी नेकहा, "जा ज़रा चुदाई देख कर आ, अभी ७:३० बज रहेहैं, ८:३०
बजेतक आ जाना। तुम दोनों की चूत और चूची का मुज़रा भी तो करना हैमुझे।"
और इतना कह कर मौसी मुःकुरा दी
मोनी नेमुझेसाथ िलया और बोली - "चल घुमा कर लाती हूँ।"
सबसेपहलेहम एक बड़ेसेहॉल में पहुँचे, "वहाँसःती वाली रंिडयों की चुदाई हो रही
थी
बग़ल में बहुत सेग��ेपड़ेथे, िजन पर रंिडयाँलेटी हुईं थीं। सब मोटी और भ��ी सी थीं
और कुछ िरक्शेवालेजसै ेलोग उनके ऊपर चढ़ेहुए थे। मोनी बोली - "सब की चूत
भोंसड़ा हो रहींहैं। २०-२० साल सेचुदवा रहींहैं, मौसी तो इन्हें भोंसड़ी वाली कह कर
बुलाती हैं। सािलयाँएक िदन में १०-१० को िनपटा देतींहैं। आ पास सेिदखाती हूँ।"
मैंनेपास जाकर दखा तो एक भैंस जैसी मोटी औरत पर एक ५० साल का कमज़ोर
सा बुड्ढा चढ़ा हुआ था, औरत की चूिचयाँपेट सेिचपक रहींथीं, बुड्ढा धक्के लगा
रहा था। मोनी नेकहा - "जरा इस रिसया का लौड़ा तो देख, झड़ा पड़ा है, िफर भी यह
साला चूत पर चढ़ा पड़ा है।"
हम दोनों हँसतेहुए आगेबढ़ गए। सब जगह एक सा ही हाल था। मोनी बोली -
"इनमें सेकई तो ऐसी हैं, अगर १० िमनट सेज्यादा अगर कोई चोदे, तो यह एक
झपकी नींद की भी मार लेतींहैं।" हम दोनों िखलिखला कर हँस पड़े।
अब मोनी मुझेऊपर वाली मंिजल पर लेगई। वहाँकई कोठरी जसै ेकमरेबनेहुए थे।
इस मंिजल पर ५०० से१००० वाली चुदती थीं। मोनी नेकहा - "िजतनेकमरेबंद हैं,
वहाँलड़िकयाँचुद रहींहैं, जो खुलेहैं वो खाली हैं। एक कमरेमें दो या दो सेअिधक भी
चुद सकती हैं।"
मोनी बोली - "हर कमरेके दरवाज़ेपर एक छेद बना हुआ है, अदं र का नज़ारा देखने
के िलए। आ... ज़रा झाँक कर लड़िकयों की चुदाई देखतेहैं।"
मोनी एक-एक छेद में झाँक-झाँक कर देखती जा रही थी। एक जगह उसनेकहा -
"यहाँझाँक कर देख, मज़ा आएगा।"
मैंनेजब झाँक कर देखा तो मैं देख कर दंग रह गई। अंदर एक लड़की मुँह में लौड़ा
लेकर बड़ी मःती सेलॉलीपॉप की तरह चूस रही थी और लड़का उसके चूतड़ दबा रहा
था। कुछ देर बाद लड़के नेलौड़ा मुँह सेिनकलवा िदया और बोला रानी ज़रा घोड़ी
बनो, तुम्हारी चूत पीछेसेचोदता हूँ। उसनेउसेघोड़ी बना िदया और उसकी चूत में
अपना लंड एक झटके में घुसा िदया। लड़की के मुँह से "आह मर गई..." की तेज़
आवाज़ िनकली। लड़के नेकमर सेपकड़ कर उसकी चूत में तेज़-तेज़ धक्के मारने
जारी रखे। लड़की ज़ोरों सेिचल्ला रही थी। कुछ देर बाद लड़के नेधक्के मारना धीमा
कर िदया और उस पर झुक कर उसकी चूिचयाँबेदद�� सेमसलनेलगा। लेिकन रंडी
िचल्लायेजा रही थी। ऐसा लग रहा था जसै ेउसेबहुत ददर् हो रहा हो।
मोनी बोली - "यह १००० वाली रंिडयाँऐिक्टंग करनेमें बहुत तेज़ होतींहैं। सालेका ५
इंच का ही लौड़ा हैऔर यह कुितया ऐसेिचल्ला रही हैजैसेचूत में सेबच्चा िनकल
रहा हो।"
िफर एक और कमरेमें मैंनेझाँका। अदं र दो लड़के एक लड़की पर चढ़ेहुए थे। लड़की
सीधी लेटी हुई थी, एक लड़की की जाँघें पकड़ कर फैलाए हुए था और उसकी चूत में
सटासट लंड आगे-पीछेकर उसेचोद रहा था, तो दसू रा बगल सेरंडी का मँुह ितरछा
कर अपना लौड़ा चुसवा रहा था। क़रीब २ िमनट तक लगातार लड़की की चूत चुदती
रही। िफर चूत में सेलड़के नेलंड खींच िलया उसका लंड झड़नेवाला था। लौण्डेने
कंडोम उतार कर दो झटके लंड पर मारेऔर ढेर सारा वीयर् लड़की की चूिचयों पर
िगरा िदया। िफर उसनेअपनेहाथों सेलड़की की चूिचयाँकस-कस कर मसली और
अपनेगाढ़ेलंड-रस सेलड़की की मािलश कर दी। दसू रेवालेनेरंडी के मँुह सेलंड
िनकाल िलया था। रंडी बोली तूभी चोद राजा कब तक लंड खड़ा रखेगा। दसू रेवाले
का लंड काफ़ी अच्छा था, मेरा मन भी उसके लंड सेचुदवानेका करनेलग रहा था।
दसू रेवालेनेरंडी को घोड़ी बना िदया और उसकी गाण्ड पर ढेर सारा थूक डाल िदया
था। रंडी घबरा गई बोली - "राजा गाँड रहनेदो, चूत मार लो, बहुत ददर् होगा। आपका
लौड़ा बहुत बड़ा है।" लड़का बोला - "गाँड थोड़ेही न मार रहा हूँ, थोड़ा चेक कर रहा
हूँ।" कह कर उसनेअपनी ऊँगली उसकी गाँड में डाल दी और कस-कस उसेघुमाने
लगा।
मुझेयह सब देखनेमें बड़ा मज़ा आ रहा था। थोड़ी देर में लड़के नेऊँगली िनकाल कर
एक झटके में उसकी गाँड में अपना लंड घुसा िदया... लड़की एक दम सेिचल्ला
पड़ी... ऊही... मर गई..., मर गई...। लड़के नेसटासट उसकी गाँड मारनी जारी रखी।
रंडी के िचल्लानेकी आवाज़ बाहर तक आ रही थी। मोनी नेपीछेसेमेरा पेटीकोट
उठा कर मेरी गाँड में अपनी पूरी ऊँगली घुसा दी। मेरेमुँह सेएक दम से "उई... मर
गई" की आवाज़ िनकल गई।
मोनी बोली, "दसू रेकी गाँड चुदाई देखनेमें बड़ेमज़ेआ रहेहैं। रात को जब तेरी मारी
जाएगी, तब देखती हूँ।
मैंनेशरमातेहुए एक मुःकान भरी... मैंनेकहा - "मोनी चुदनेका अब बहुत मन कर
रहा है।"
मोनी बोली - "चुदेगी, तूभी चुदेगी... और आज रात ही चुदेगी... और मोटेलंड से
चुदेगी। मौसी तुझेऐसेही नही छोड़ेगी।"
मोनी नेआगेबताया - "येसब रंिडयाँठेके पर २०-२० िदनों के िलए आतींहैं। २०
िदनों के बाद यह दसू रेकोठेपर चली जाएँगी। इनकी जगह नई आ जाएँगी, तािक
कोठों की रौनक बनी रहे। केवल ५-६ ही यहाँकी परमानेंट रंिडयाँहैं। चल, अब सबसे
ऊपर की मंिजल पर चलतेहैं, जहाँमँहगी वाली लड़िकयाँचुदती हैं।
ऊपर वाली मंिजल पर भी कमरेबनेहुऐ थे। मोनी नेबताया िक यहाँमँहगी वाली
रंिडयाँचुदतींहैं। यहाँकुछ वातानुकूिलत कमरेभी हैं, हर कमरेमें वीिडयो और टीवी
है। माहक xxx देखतेहुए चोदतेहैं। मैं अभी तक हर बार यहींचुदी हूँ। तूभी इन्ही में
सेिकसी एक कमरेमें चुदेगी। अंदर एक कमरेमें मैंनेझाँक कर देखा तो एक आदमी
रंडी को गोद में िबठाए हुए था और उसका लौड़ा उसकी चूत में घुसा हुआ था। दारू का
िगलास लड़की के हाथ में था िजससेवह हल्की-हल्की चुिःकयाँलेरहा था और
लड़की के चूची की घुंिडयों को नोच रहा था। शायद कोई xxx देख रहा था। बाकी
कमरों के छेदों सेकुछ लोगो की गाँड के िसवा कुछ नही िदखा।
यह सब देख मैं काफ़ी गरम हो गई थी। राजूऔर कालूवहाँचौकीदारी कर रहेथे।
मुझेदेखकर राजूबोला, "जब सेतुम्् हें देखा है, मेरा लंड तो नीचेबैठ ही नहींरहा है
रानी। चूत नही तो एक बार चूिचयों का दधू तो िपला दो। इस कालूनेतो िफर भी एक
बार तुम्हारी दबा रक्खी हैं।"
राजूकी बात सुन कर मैं और मोनी हल्के सेमुःकुरा िदए। मोनी बोली - "क्यों मैडम
एक बार इन्हें दधू िपला दें?"
मैंनेकहा - "चल, थोड़ा सा दधू इन्हें िपला देतेहैं।
हमलोग एक खाली कमरेमें आ गए। मेरी चूत चुदनेको चुनमुना रही थी। मैंने
अपनी ब्लाउज़ का हुक खोल िदया। अब मेरेदोनों संतरेबाहर थे। मैं बोली - "लो राज,ू
दधू िपयो, तुम भी क्या याद रखोगे।"
राजूनेकस-कस कर मेरी दोनों चूिचयाँएक-दसू रेसेिचपका दींऔर मेरी घँुिडयाँ
ज़ोर-ज़ोर सेचूसनेलगा। मुझेगज़ब की मःती छानेलगी थी। राजूकस-कस कर मेरे
दधू दबा रहा था और मेरी घुँिडयाँजम कर चूसेजा रहा था। मेरी चूत सेबुरी तरह से
पानी बहनेलगा था।
मैंनेकहा - "राजूडािल��ग, मेरी चूत फाड़ो, मेरेहोंठ चूस डालो... मुझेआज तुम चोद
कर ही छोडना।"
राजूनेमेरी चूिचयाँछोड़ कर, मुझेकस कर अपनेसेभींच िलया और मेरेमुँह में
अपनी जीभ डाल दी और मेरेहोंठों को चूसनेलगा। राजूका मोटा लंड मेरी चूत से
िचपक रहा था, उसनेमुझेजोरों सेभींच रखा था। मेरेहोंठ ज़बदर्ःत तरीके सेवो चूस
रहा था। तभी मौसी उधर आ गईं और मेरेचूतड़ों पर कस कर हाथ मारती हुई बोली,
"अरेमेरेरंडी रानी तुम तो यहाँरंडीबाज़ी कर रही हो!"
मैं और राजूअब हट गए थे। मोनी मुःकुरा रही थी। मुझसेरहा नहींगया, मैंनेकहा -
"मौसी... अब मुझेचुदवाओ, मैं चुदना चाहती हूँ। मेरी चूत चुदनेके िलए फड़क रही
है।"
राजूमुःकुरा रहा था, मौसी नेकहा, "अभी थोड़ी रंडीबाज़ी तो सीख। लंड सेतो तू
खेली भी नही है> अभी तूनेढंग सेलंड देखा भी नहींहै। पहलेतूलंड सेतो थोड़ा
खेलना सीख, चुदवा तो मैं तुझेएक िमनट में दँगू ी।" राजूमुःकुराए जा रहा था।
मौसी बोली - "राजू, पहलेतूइसेअपना लंड िदखा।" राजूनेएक झटके सेअपना
पाजामा उतार िदया। राजूका ८ इंच लंबा और मोटा लंड मेरेसामनेथा। मैं अपने
होठों पर जीभ िफरनेलगी थी। मैं इतना मोटा-नंगा लंड इतनेक़रीब सेआज पहली
बार देख रही थी। मौसी पलंग पर बैठ गईं और मुझेभी बगल में िबठा िलया।
राजूको मौसी नेबुलाया और कहा - "जरा इसकी चुिचयों पर लंड िफरा।"
मैं पलंग पर बैठी थी और राजूअब मेरी चूिचयों पर अपना लंड हाथ सेपकड़ कर
िफरानेलगा। उसनेमेरी घुंिडयों पर लंड का सुपाड़ा दबा-दबा कर िफराया। मैं पूरी
मःती में आ गई थी।
मौसी नेराजूका लंड अपनेहाथ सेपकड़ कर मेरेहाथ में पकड़ा िदया और बोली, "ले
जरा इसेमसल और जरा मुट्ठ मार।"
जैसेही मैंनेलौड़ा हाथ में पकड़ा, मैं सनसना गई। लौड़ा बहुत गरम था, मेरी बुर
पिनया रही थी। मैं कस-कस कर लौड़ा मसलनेलगी। मुझेबहुत मज़ा आ रहा था।
राजूमेरेबालों को सहला रहा था।
थोड़ी देर बाद राजूनेमुझेखड़ा कर िदया। मुझेलग रहा था शायद राजूमुझेअब चोद
देगा, लेिकन राजूनेएक बार मुझेिफर भींच िलया। अब वह और कस-कस कर मेरे
होंठों के बीच सेअपनी जीभ डाल कर चूसेजा रहा था।
तभी राजूनेमुझेपीछेकी तरफ़ मोड़ िदया, अब मेरा मुँह मौसी की तरफ़ था। राजूने
जोर सेमेरी घुँडी नोच ली और मेरी चूिचयाँदबाईं। पीछेसेराजूका मोटा लंड कस कर
मेरी गाँड दबा रहा था। मौसी आगेबढींऔर मेरेपेटीकोट का नाड़ा खोल िदया। राजू
नेमुझेढीला छोड़ िदया। मेरी पेटीकोट अब ज़मीन पर थी।
नंगी गाँड पर राजूका नंगा लंड लगतेही मैं उचक पड़ी। अब मैं चुदवानेकी उ��ेजना
की चरम सीमा का अनुभव करनेलगी थी। दो िमनट बाद मौसी के इशारेपर राजूहट
गया। मेरी बुर का पानी जाँघों तक आ रहा था। मैं िचल्ला सी पड़ी, "मौसी मुझे
चुदवाओ ना... मेरी चूत में आग लगी पड़ी है, राजूसेकहो मेरी चूत चोदेऔर मेरी
प्यास बुझाए।"
मौसी बोली - "गाँड मरवाएगी... तो तुझेचुदवाऊँ।"
में पगला सी रही थी। मैंनेकहा - "गाँड, चूत एक सेनहीं६-६ सेमरवा लूँगी... प्लीज़
मौसी मुझेचुदवाओ, जल्दी चुदवाओ। राजूसेबोलो िक वो अपना लंड जल्दी सेमेरी
चूत में डाल दे।"
मौसी मुःकुराई - "लेज़रा इसेपहलेकंडोम पहना अपनेहाथ से।"
मैंनेकंडोम लेकर राजूके सुपाड़ेपर लगाया। एक बड़ा रोमांचकारी अनुभव था।
मौसी बोली - "नीचेतो सरका दे।"
नीचेसरकानेके िलए मुझेएक हाथ सेनीचेउसका लंड पकड़ना पड़ा और दसू रेहाथ
सेमैंनेउसेनीचेसरका िदया। मेरी चूत की जलन बढ़ती जा रही थी, मुझेअब लग
रहा था िक मेरी चुदाई शुरू होनेवाली है।
मौसी राजूसेबोली - "जरा इसकी चूत पर दो तीन बार लंड िफरा दे, िफर जरा नीचे
चल के इसकी चूत के दशर्न माहकों को करातेहैं।"
राजूनेमुझेपलंग पर िलटा िदया और कस-कस कर मेरी चूत पर अपना लंड िफरा
िदया। एक बार उसनेआधा इंच लौड़ा मेरी चूत में घुसाया लेिकन मौसी नेउसेडपट
कर लौड़ा हटवा िदया।
मौसी नेराजूको हटा िदया और बोली - "चलो अब नीचेचलतेहैं, वहाँइसेमाहकों की
गोदी में उनके लौड़ेपर िबठाती हूँ।"
मैं चुदनेको पागल हुई जा रही थी... मुझसेरहा नहींजा रहा था। मैंनेकहा - "मौसी
मुझेचुदवाओ, मेरी चूत में जलन हो रही है, मैं पगला सी रही थी।"
मौसी नेमेरी तरफ़ देखा और बोली - "चूत में तो इसके वाक़ई आग लगी हुई है, राजू
तूएक काम कर, इसकी चूत को चूस। २-३ िमनट में यह पानी छोड़ देगी िफर इसे
थोड़ी सी शािन्त िमलेगी।"
राजूनेअब मेरी चूत पर अपना मुँह लगा िदया और कस-कस कर मेरी चूत चूसने
लगा। मौसी के इशारेपर कालूनेमेरा िसर अपनी गोद में रख िलया और मेरी चूिचयाँ
ज़ोरों सेदबानेलगा। राजूकु��ेकी तरह मेरी चूत चाट रहा था। उसनेबुरी तरह सेमेरी
चूत के मुहानेको चाटना जारी रखा।
कुछ देर बाद उसनेअपनी जीभ मेरी चूत के अंदर डाल दी और उसकी १ इंच लम्बी
जीभ अब मेरी चूत में िफर रही थी। मेरी मःती सेकमरा उह... आह... उह... आह...
ऊह... आह... सेगूँज उठा। थोड़ी देर में मेरी चूत सेबड़ी तेजी सेचूत-रस िनकला िजसे
राजूलपालप पीनेलगा।
मुझेचूत में कुछ शािन्त सी लगी। मौसी नेइसके बाद राजूऔर कालूको नीचेभेज
िदया और बोली - "चल इधर बहुत मःती लेली अब नीचेमःती किरयो। येमेरा वादा
हैिक १२ बजेतक तेरी चूत के अदं र मोटा लंड मैं घुसवा दँगू ी और आज रात तेरी गाँड
भी ठुकवा दँगू ी।"
मैं उठ गई थी, मोनी नेमुझेपेटीकोट और ब्लाउज़ पहना िदया। ९ बजनेवालेथे,
मौसी नेकहा - "आओ मेरी रंिडयों, अब तुम नीचेचलो और थोड़ा धंधा शुरू करो।"

सािथयो,
इनमें आपनेदेखा िक िकस तरह मैं मःत होकर मौसी के कोठेपर घूम रही थी और
रंिडयों की चुदाई देख रही थी लेिकन मुझेक्या पता था िक मौसी मुझेभी कोठेकी
रंडी बना देंगी !
पिढ़येकैसेमौसी नेमुझेबना िदया कोठेकी कुितया
हम लोग ९ बजेमौसी के कमरेमें थे। मौसी नेमेरेऔर मोनी के िलए कमरेमें ही
खाना मँगा िलया। खानेमें मुग�� की टांगें और मटन था।
मौसी बोली- लो खाओ, देसी मुगार् हैं, चूत में आग लगा देगा ! खाओ िपयो और
मिःतयाओ ! थोड़ी देर बाद माहकों के लौड़ों पर बैठना और अपनी जवानी का रस
िपलाना !
खाना बहुत ःवािद�� था, हम लोगों नेपेट भर के खाया।
खानेके बाद मौसी बोली- अब तूमिःतया बहुत ली है, चल अब तुझेधंधेपर बैठाती
हूँ ! मुझत में तो मैं पानी भी नहींिपलाती। अब ध्यान सेमेरी बात सुन, नीचेःपेशल
हाल में तुझेिमलाकर कोठेकी सबसेहसीन सात लड़िकयांखड़ी होंगी और दो
लड़िकयांनंगी होकर नाचेंगी। माहक तुम्हें खरीदेंगेऔर गोद में बैठाकर तुम्हें नंगा
करेंगेऔर तुम्हारी चूत और चूिचयों को मसलेंगे। तुम सब उनके लंड बाहर िनकाल
कर चूसोगी और मसलोगी।
डांस देखनेका िटकट ५०० रुपयेहै, गोद में बैठाकर रंिडयों की मसलाई करनेके कम
सेकम १००० रूपये१० िमनट के हैं, उसके बाद हर ५ िमनट के ५०० रुपए हैं। लौड़ा
चुसवानेके १००० रूपयेअलग सेहैं। कोई ५००० या ज्यादा देता हैतो लोंडी १० िमनट
के िलए उसकी ! वो इन १० िमनट में वो लोंडी की चूत मार सकता है।
१ घण्टा यह धंधा चलता है, हर लोंिडया को कम सेकम ५००० रुपए कमा के देनेहोते
हैं। चल १० िमनट के िलए तुझेशेिनंग िदलवा देती हूँ !
मौसी नेघन्टी बजा दी, एक लड़की अंदर आई, मौसी बोली- शो करानेवालेचारों
मुःटंडों को भेज ! चारों मुःटंडेथोड़ी देर में अंदर थे, उनके नाम रोकी, िपंटू, टीनूऔर
भूरा थे। सब खतरनाक चेहरेके गुंडेलग रहेथे।
मौसी बोली- रोकी, तूजहाँलड़िकयांिबकें गी, वहांखड़ा होगा ! िपंटूजहाँरंिडयां
मसली जा रही होंगी वहाँबैठेगा और रंडी अगर ५ िमनट के अंदर लौड़ा नहीं
िनकालेगी तो उस पर िसगरेट की िचंगारी डालेगा, टीनूपैसेइकठा करेगा, भूरा देखने
वालेमाहकों को कण्शोल करेगा।
मौसी िपंटूसेमेरी तरफ इशारा करतेहुए बोली- बाकी रंिडयांतो सब खेली खाई हैं,
यह नई है, तूजरा इसेगोद में बैठा ! बाकी मैं िसखाती हूँ !
िपंटूनेमुझेगोद में उठाया और पलंग पर अपनी जांघों पर िबठा िलया सभी गुंडे
कुिटल मुःकान के साथ मुझेदेख रहेथे। िपंटूनेमेरेब्लाउज़ और पेटीकोट उतार कर
मुझेपूरा नंगा कर िदया और बोला- रंडी, साली ! अब तूपूरी कोठेकी कुितया लग रही
है ! उसनेकस कस कर मेरी चूिचयांमसलनी शुरू कर दीं।
मौसी मेरेपास आईं और मेरा हाथ िपंटूके लौड़ेपर रख िदया और बोली- जरा इसके
शेर को तो बाहर िनकाल !
मुझेलौड़ा िनकलनेमैं शमर् आ रही थी, तभी एक गडंु ेनेमेरेऊपर जलती हुई िसगरेट
की राख़ डाल दी, मैं उई मर गई ! कहकर उठनेलगी लेिकन िपंटूइतनी कस कर
पकड़ा हुआ था िक मैं उठ नहींपाई।
मौसी बोली- लौड़ेको नहींिनकलेगी तो यही हाल होगा ! चल सारेबटन खोल इसके
और लौड़ा मसल !
मैं घबरा गई, मैंनेजल्दी जल्दी िपंटूकी पैंट के सारेबटन खोल िदए नीचेमुःटंडा
कुछ नहींपहना था, उसका सात इंच मोटा लंड तनतना के िनकल आया, िजसेमैंने
कस कस कर मुठी में दबा िलया। मौसी नेएक ट्यूब िपंटूकी तरफ बढ़ा दी िजसे
उसनेमेरी चूत पर लगा िदया। मेरी चूत में चुदनेकी कुलबुलाहट भर गई। मौसी ने
दो िमनट लगातार मुझसेिपंटूके लंड की मुठ मरवाई। इसके बाद मौसी नेमुझेउठा
िदया और खड़ेखड़ेही मुझसेसभी मुःटंडों के लंड िनकलवाए िजसमें सेदो चड्डी
पहनेहुए थेऔर उनकी चड्डी नीचेसरका के मुझेउनके लंड िनकालनेपड़े।
इसके बाद मौसी नेउनमें सेजो सबसेभ��ा और गन्दा िदख रहा था, िजसका नाम
भूरा था, उसका लौड़ा मुझेपकड़ाया और बोली लेइसका लंड चूस !
भूरा काफी गन्दा था, मैं बोली- मौसी मैं इसका लंड मुँह में नहींलूंगी !
मौसी नेिपंटूके हाथ सेिसगरेट ली और मेरेनंगेचूतड़ों पर मसल कर बुझा दी। मैं
जोरों सेचीख उठी। मौसी गरु ातर् ेहुए बोली- हरामखोर, साली, मैं प्यार सेबात कर रही
हूँऔर तूअपनेको कोठेकी रानी समझ रही है? यह सालेमोटेमोटेमुःटंडेमुझेना
नहींकरते, तूना कर रही है? और उन्होंनेमेर बाल खींच िदए। मैं िबलिबला गई।
मरती क्या नहींकरती, मैंनेभूरा का गन्दा सा काला लंड अपनेमुँह में डाल िलया।
मौसी बोली- कुितया, ठीक सेआगेपीछेकर के चूस ! यहाँरानी कोई नहीं, सब रंिडयां
हैं अपनेको अब तूकोठेकी कुितया मान ! इतनेनखरेकरेगी तो हाल में क्या लौड़ा
चूसेगी।
मैं बहुत डर गई थी, मैं लपालप भूरा का लौड़ा चूसनेलगी। आज तक मैंनेलौड़ा नहीं
चूसा था। भूरा गन्दा जरूर था लेिकन उसका लौड़ा चूसनेमें मुझेमज़ा आ गया।
िचकना लौड़ा मेरेमुँह में आगेपीछेहो रहा था। मुझेलौड़ा चूसनेमें गज़ब का मजा
आनेलगा। मैंने५ िमनट तक मःत होकर लौड़ा चूसा। मौसी नेमुझसेभूरा के टट्टों
पर भी जीभ िफरवाई।
मौसी नेथोड़ी देर बाद सबको बाहर भेज िदया और मुझसेबोली- देख, धंधेके मजेले
! मैं जसै ा कहूँगी वैसा करेगी तो बहुत मज़ा आएगा और नहींकरेगी तो तेरी चमड़ी को
जला दँगू ी ! कल मैं तुझेछोड़ दंगू ी। तूकोठेसेचली जाना। लेिकन जो सेक्स का मजा
यहाँलेलेगी वो तुझेऔर कहींनहींिमलेगा !
उसके बाद मौसी मुझेएक कमरेमें लेगईं, वहांमोनी और मुझेिमलाकर सात
लड़िकयांथी। मौसी नेहम सबके कपड़ेउतरवा िदए। अब हम सातों रंिडयांपूरी नंगी
थीं।
मौसी बोली- तुम्हारी चुिचयों पर एक पतली चुन्नी रहेगी और चूत पर पतली चड्डी
होगी िजसेमाहक उतार कर तुम्हारी चूत सहलाएगा और तुम सब उनके लौड़े
मसलना ! चलो अब हाल में चलनेको तैयार हो जाओ। जो भी कुितया नखरेकरेगी
उसकी गांड और चूत जला दँगू ी ! हर माहक को पूरा मजा देना हैऔर उनको इतना
मःत करना हैिक वो अपना लौड़ा चुसवाएंऔर १०-१० हज़ार तुम्हारी चूत मारनेके दें
! चलो अब हाल में चलें !
हाल में एक तरफ ग��ेदार कुिसर्यांपड़ी थीं, मोनी नेबताया िक इन सोफों पर माहक
हमारी चूत और चूिचयांमसलेंगे। पास में ही एक काउंटर था जहाँहम सातों रंिडयां
जाकर खड़ी हो गईं। मौसी नेहम सब की चूत पर जेली लगा रखी थी िजससेचूत में
एक अजीब सी खुजली हो रही थी। बार बार हाथ चूत खुजलानेको चला जा रहा था।
सामनेडांस के िलए जगह थी, जहाँदो रंिडयांलहंगा पहन कर नाचनेके िलए तैयार
थीं।
मोनी नेबताया िक नाचते-नाचतेयेदोनों नंगी करी जाएँगी और बीच बीच में मुःटंडे
इनकी चूत और चूतड़ों को मसलेंगे। आधेघंटेके बाद यह बदल जाएँगी और दसू री दो
लड़िकयांनाचनेआएँगी। सभी नाचनेवाली लड़िकयांबॉम्बेसेआती हैं और एक शो
के १०-१० हज़ार लेती हैं। यह लड़िकयां१-२ घिटया िहंदी िफल्मों में छोटा मोटा रोल
करेहोती हैं। आज जो लड़िकयांडांस करेंगी, 'वो लुट गई लैला' और 'मःत जवानी'
िफल्म की हेरोइन रह चुकी हैं।
मौसी अंदर आई और बोली- लो मेरेकोठेकी कुि��यों, एक एक कड़ेपहनो !
सभी कड़ेअलग-अलग रंग के थे। मेरेिहःसेमें हरा कड़ा आया।
मौसी बोली- माहक कड़ेके रंग सेतुम्हारी बोली लगायेंगे ! चलो सब लाइन सेखड़ी
हो जाओ और थोडा मःतीयाओ तािक तुम सबके रेट ज्यादा लगें।
िपंटूचल घंटी बजा और माहकों को अंदर बुला, तब तक रोकी और भूरा, तुम इनकी
घुिन्डयाँमसल कर खड़ी कर दो िजससेिक इनकी चूत की आग जोरों सेभड़के।
रोकी और भूरा नेनोच नोच कर हमारी िनप्प्लें खड़ी कर दीं। हम सब नग्न दधू ों पर
पतली चुन्नी डालेखड़ी थी।
माहकों का अंदर आना शुरू हो गया था, रंिडयांनाचनी शुरू हो गईं थीं। मेरेसाथ की
रंिडयांकभी अगं ड़ाई लेरही थी, कभी अपनेसंतरेदबातेहुआ माहकों पर चुम्मेफ़ें क
रही थीं।
रोकी हमारेपास घूम रहा था ! उसनेमेरेचूतड़ पर हाथ फेरतेहुए कहा- जरा मचल !
देख बाकी कुितयांकैसेमचल रही हैं !
मौसी पास ही घूम रही थीं, मुझसेबोली- कुितया, जैसेसभी रंिडयांमचल रही हैं, वैसे
मचल ! अब तूधंधेपर बैठ गई है, नखरेन कर, इस समय तूमेरेकोठेकी कुितया है,
मेरी कुितयांजसै ा मैं कहती हूँ, वैसा करती हैं ! नहींतो उनकी गांड जला देती हूँ !
मौसी नेमेरा एक हाथ उठाया और मेरी चड्डी में डाल िदया और दसू रा हाथ मेरी चूची
पर रख िदया। उसके बाद बोलीं- दोनों को धीरेधीरेमसल ! तेरा रेट अपनेआप चढ़ेगा
! आज कोठेपर तूसबसेसेक्सी कुितया लग रही है ! ५ िमनट बाद मःत होकर
अपनेराजा का लौड़ा मसलना ! तुझसेइस शो में मुझे१०००० रु कमानेहैं।
नाच जोरों पेथा, लड़िकयों की ॄा उतार दी गई थी, उनके नंगेःतन िबलकुल सीधे
तनेहुए थे, वो अपनी चुिचयाँकभी लेट कर कभी झुककर िहला रही थीं, उनका नंगा
डांस जोरों पर चल रहा था।
एक दो माहक अपनेलंड िनकाल कर वहींपर सहला रहेथे। हम सबकी बोली की
आवाजें लग रही थी- कोई िचल्ला रहा था लाल वाली २००० हरी वाली १६०० !
१० िमनट बाद मौसी हमारी तरफ आई और रोकी सेबोली- चल इन रंिडयों को इनके
खरीददारों के साथ भेज और इनका धंधा शुरू करा ! मेरा ४ नंबर था पहली ३ को
उनके माहक उनकी चूिचयांमसलतेहुए सोफे की तरफ लेगए। मेरा खरीददार एक
नेताजी जैसा लगनेवाला आदमी था जो मुझेबुरी तरह कामुक नज़रों सेघूर रहा था।
मौसी बोली- पूरे२२०० में उठी हैतू ! जरा मःत होकर नेताजी का लौड़ा गरम किरयो
! नेताजी अगर खुश हो गए तो मालामाल कर देंगेऔर तुझेहेरोइन बनवा देंगे !
मौसी नेमेरा हाथ नेताजी के हाथ में देिदया।
नेताजी नेमेरी चुन्नी उतार कर फ़ें क दी और अपना एक हाथ पीछेसेडालकर मेरी
एक चूची अपनेहाथ में दबा ली उसेदबातेहुए बोलनेलगे- साली बहन की लोड़ी !
तेरा माल तो बड़ा गज़ब का है ! आज तो तेरा पूरा रस पीकर ही यहाँसेजाऊँगा ! और
वो मुझेसोफे की तरफ लेगए। नेताजी के मुँह सेदारू की जोर की बदबूआ रही थी।
उन्होंनेसोफे पर मुझेअपनी एक जांघ पर बैठा िलया और मेरेःतनों की मािलश
करतेहुए मेरेहोठ चूसनेलगे।
बगल में मोनी की मसलाई हो रही थी। मोनी मुझेदेख कर बोली- लौड़ा िनकाल के
खेल, वनार् अभी िपंटूिसगरेट सेजला देगा।
मैं संभल गई और नेताजी के पजामेका नाड़ा खोलनेलगी। नेताजी अंदर कुछ नहीं
पहनेथे, उनका ६ इंच लम्बा लौड़ा खड़ा हुआ था, िजसेमैंनेअपनेहाथों में कस कर
पकड़ िलया और दबानेलगी। मेरी चूत बुरी तरह सेखुजला रही थी। नेताजी नेमेरी
पतली चड्डी एक झटके में खींच कर फाड़ दी और जोर जोर सेचूत की मसलाई करने
लगे।
मेरी बुर बुरी तरह सेगरम हो रही थी, मैंनेअपनी टांगें चौड़ी कर दींथींऔर मेरी
गरम खलु ी हुई चूत साइड में खड़ेकु��ों को मिःतया रही थी।
नेताजी मेरेचूत का दाना रगड़ेजा रहेथे। नेताजी के लौड़ेपर मेरी पकड़ मजबूत होती
जा रही थी और मैं उनका लोड़ा जोरों सेसहला रही थी। मेरेआस-पास भी इसी तरह
की रंडीबाजी चल रही थी। वाकई मैं अब कुितया बन गई थी।

अगल बगल में सभी लड़िकयाँअपनेहाथों में लंड पकड़ेहुए थींऔर उनको मसल रही
थीं। मोनी को एक मोटेसेसेठ नेअपनी गोद में बठा रखा था। सेठ ने१००० रूपये
िपंटूकी तरफ बढ़ा िदए। िपंटूनेमोनी को आंख मार कर लौड़ा चूसनेका इशारा
िकया। मोनी जमीन पर बैठ गई और उसनेसेठ का ४ इंच लम्बा लौड़ा मुँह में ले
िलया और उसेलोलीपोप की तरह चूसनेलगी।
नेताजी मेरी चूत में अपनी उँगिलयाँआगेपीछेकर रहेथेतभी एक एक माहक मेरी
तरफ आया और १०-१० के नोट मेरेऊपर फें कनेलगा। िपंटूपीछेसेआकर मेरी
चुिचयों की घुिन्डयाँगोल गोल घुमानेलगा और नेताजी नेमुझेअपनी दोनों टांगों
पर िबठा िलया और मेरी चूत के होंठ सहलानेलगे। उनका लंड मेरी चूत सेछू रहा
था। मेरी चूत की खजु ली बहुत बढ़ गई थी और मन कर रहा था िक चूत में लंड घुसे
और मैं चुदाई का मःत मज़ा लूं। नेताजी मेरी चूत की मसलाई जोरों सेकर रहेथे।
माहक नेपूरी १० के नोट की गड्डी मुझ पर लुटा दी। उसके बाद एक मुःटंडेनेउसे
वहांसेहटा िदया।
१० िमनट वाली घंटी बज गई। नेताजी को िमलाकर पांच लोगों ने१००० रु. बढ़ा िदए।
अब वो लोंडी को १० िमनट और मसल सकतेथे। २ रंिडयों के माहक झड़ चुके थेवो
दोनों उठ गई और िफर काउंटर पर जाकर खड़ी हो गई। ७ में से३ लडिकयाँलौड़ा
चूस रही थीं। नेताजी नेअपनी जेब से१००० की गड्डी िनकाली और एक नोट िपंटूकी
तरफ बढ़ा िदया। िपंटूनेमेरा एक संतरा जोरों सेमसलतेहुआ कहा चल अब जरा
साहब का लौड़ा चूस।
मैं मरती क्या न करती। मुझेअब नेताजी के पैरों में बैठकर उनका लौड़ा मुँह में लेना
पड़ा। लौड़ा पूरा वीयर् सेगीला हो रहा था। मुँह में लौड़ा घुसतेही एक कसेला सा ःवाद
मुझेलगा। दो तीन बार लौड़ा चूसनेसेमुझेमःती आनेलगी और मैं मःत होकर
नेताजी का लौड़ा चूसनेलगी। नेताजी मेरेचूतड़ों को कस कस कर दबा रहेथेऔर
कह रहेथे,"रंडी तूतो बड़ा मःत लौड़ा चूसती हैचल जरा मेरा सुपाड़ा चाट ! अगर
मुझेखशु कर देगी तो कुितया, मैं तुझेिहरोइन बनवा दंगू ा !"
अब मैंनेनेताजी का सुपाड़ा चाटना और चूसना शुरू कर िदया था। नेताजी नेमेरे
ऊपर दो-तीन १०००-१००० के नोट लुटा िदए। तभी वहांमौसी के साथ ४-५ पुिलस
वालेआ गए। सभी सादी वद�� में थेमौसी बोली- कोई घबराए नहीं, सब कुछ २-३
िमनट के िलए है।
एक पुिलस वालेनेमेरेबाल खींचेऔर मुझेधक्का िदया और बोला,"साली रंडी हट
इधर सेहट !"
मैं पीठ के बल िगरी और एक पुिलस वालेनेनेताजी को १०-१२ थप्पड़ मार िदए। िफर
बोला,"कलुआ ! सालेहमें धोखा देता हैसाला बैंक लूटता हैÉ हरामी कहींके ! तुझे
अभी थानेमें चलकर बताता हूँिक पुिलस को परेशान करनेका मतलब क्या होता है
?"
पुिलस नेताजी को धक्के मार कर लेगई। उनका इंसपेक्टर मौसी सेबोला,"मौसी,
आपकी मदद सेहम इसेपकड़नेमें सफल रहे, धन्यवाद।"
मौसी कुिटल मुःकराहट सेबोली,"हजूर हम तो आपके सेवक हैं !"
उनके जानेके बाद मौसी बोली,"भाई, सभी मःती करो, डरनेकी बात कोई नहीं। कुते
के पास जो नोटों की गिड्डयाँथी उस पर िजस बैंक की मोहर थी वो कल ही लूटी गई
थी। मैं समझ गई थी िक सालेबैंक लूट कर आयेहैं। यह साला कलुआ बदमाश था
२०,००० का इनाम हैइस पर हरामी पर। नेता बनता हैसाला भडुआ !"
हम सभी रंिडयों के माहक हमें छोड़कर भाग गए थे। हम सभी रंिडयाँएक बार िफर
साइड में जाकर खड़ी हो गईं। रोकी नेहमें पतलेकपड़ेकी चिड्डयाँपहना दी थी और
हमारेगलेमें मालाएंडाल दी थीं। नाचनेवाली लड़िकयों की चिड्डयाँमुःटंडों ने
उतार दी थीं। वो अब वो फशर् पर लेटकर अपनी चूत कभी फैला रही थींकभी छुपा रही
थीं। माहकों की भीड़ दबु ारा बढ़ गई थी हम लोगों की बोली दबु ारा लग गई थी। इस
बार मेरेिहःसेमें एक मिरयल सा ५५ साल का बुड्ढा आया था िजसनेमुझेमसलने
के िलए १५०० रुपए लगाए थे।
बुड्ढेनेमेरी माला के फूल मसल िदए और अपनेदोनों हाथों में मेरेःतनों को पकड़
कर उन्हें धीरेधीरेदबानेलगा। मैंनेबुड्ढेके पैंट के बटन खोल िदए और उसकी
चड्डी नीचेकर दी। बुड्ढेका पतला लंड खड़ा हुआ था जो मुिँकल से४ इंच का होगा।
मुझेउसेपकड़नेमें ऐसा लग रहा था जैसेिक कोई बड़ी मूंगफली अपनेहाथों में दबी
है। धीरेधीर मैं बुड्ढेकी मूंगफली मसलनेलगी। बुड्ढा मेरी चूिचयाँमसलेजा रहा
था। मेरी तरफ देखकर खी-खी करतेहुआ बुड्ढा बोला,"तेरी चूिचयाँिबलकुल मेरी बहू
की तरह िचकनी हैं !"
मैं हैरान थी मैं बोली,"क्यों ? तूअपनी बहूको भी चोदता हैक्या?"
बुड्ढा खी-खी करतेहुआ बोला,"चोदी तो नहींहै, लेिकन जब भी मुन्नेको दधू
िपलाती हैतो उसकी चूिचयाँछुपकर देखता हूँ ! िबल्कुल तेरी जसै ी िचकनी हैं !"
मैं हैरान थी िक ऐसेभी लोग होतेहैं। मैंनेउसके लौड़ेको मसलतेहुआ पूछा,"और
ताऊ क्या देखा है?"
बुढ़ऊ फुसफुसाया,"बाथरूम में २-३ बार नंगेनहातेहुए भी देखा है, एक बार जब मेरा
लड़का १०-१२ िदन के िलए बाहर गया हुआ था तो बाथरूम में उसेचूत में मोमब��ी
डालतेहुए भी देखा था। साली को चोदनेका मन तो करता हैलेिकन शराफत भी तो
कोई चीज़ है।"
मौसी उधर सेिनकली और बुड्ढेकी तरफ देखती हुई बोली।"चचा दधू ही मसलते
रहोगेया कुछ और भी करोगे? थोड़ा इसकी सुरंग में ऊँगली करो, मज़ा आ जायेगा।"
ताऊ की उँगिलयाँअब मेरा चूत के होटों पर िफसल रही थीं। एक िमनट बाद ही ताऊ
नेअपना पानी छोड़ िदया िजसकी धार मेरेहाथ और पेट पर जाकर िगरी। ताऊ के १०
िमनट पूरेहोनेवालेथे। िपंटूबोला,"ताऊ टाइम हो गया है, और देर तक कुितया को
मसलना हैतो १००० रु िनकालो !"
ताउ मुझेहटा कर अपनी पैन्ट ऊपर चढ़ातेहुए बोला,"और पैसेनहींहैं, वो राजूकी
अम्मा बटुआ भूल गई थी, उसमें से२००० रूपयेिनकाल लाया था ! िसफर् २०० रु बचे
हैं। साली कुितया बहुत मजा देरही है। तूमौसी सेबोल २०० रूपयेमें लौड़ा चुसवानेदे
बाकी बाद में देदंगू ा !"
िपंटूबोला,"नो पैसा, नो मजा ! अब जाओ िफर बाद में आना लाइन में और लगेहैं !"
रंिडयों की मसलाई जोरों पर थी। दो रंिडयों की चूत में लौड़ा भी घुसा हुआ था उनके
कःटमर उनको सबके सामनेचोद रहेथे। मोनी के सेठ नेएक ५० की गड्डी िपंटूकी
तरफ बढ़ा दी और बोला,"साली की चूत चोदनी है !"
िपंटूनेएक कंडोम का पैकेट उसकी तरफ बढ़ा िदया और बोला,"लेसेठ १५ िमनट में
कुितया को िनपटा िदयो, वरना ५००० और देनेपड़ेंगे !"
सेठ नेअपना लौड़ा मोनी की चूत में िफट कर िदया और उसकी चुदाई शुरू कर दी।
मोनी सिहत तीन रंिडयाँडांस हाल में चुद रही थीं। ३ की मसलाई सोफों पर हो रही
थी। मैं काउंटर पर नंगी खड़ी थी। इतनी देर तक हाल में नंगी खड़ी होनेसेमेरी शमर्
िबलकुल ख़त्म हो गई थी। मैं अपनेको रंडी मान चुकी थी मेरा मन लौड़ा खानेको
कर रहा था। िपंटूनेमेरेमेरेचून्चों पर एक जोर का हाथ मारा और बोला,"अभी २०
िमनट और हैं, एक माहक को और िनपटाना है !"
मौसी वहींघूम रही थीं। उन्होंनेआकर एक केला मुझेपकड़ा िदया और बोली,"हल्के-
हल्के अपनी चूत पर िफरा और अपनेमुँह सेइशारेकर ! इस बार तेरा दाम २००० रु
सेऊपर लगना चािहए, समझी ! वरना एक और कु��ा तेरेऊपर चढ़वाना पड़ेगा !"
तभी आशा नाम की एक और रंडी काउंटर पर आकर खड़ी हो गई थी। हम दोनों केला
अपनी चूत पर िफरानेलगी और माहकों की तरफ देखकर चुम्मी फें कनेलगी। मैं अब
अपनेको मौसी की लोंडी मान चुकी थी। मेरेअन्दर उनकी बात टालनेकी िहम्मत
नहींथी। सामनेलड़िकयों की चूत में लौड़ेघुसेहुए थे। मेरी चूत बहुत जोरों से
खुिजया रही थी, मन कर रहा था िक अबकी बार मैं भी चुदं।ू नाचनेवाली लडिकयाँ
बार बार अपनी चूत में मोमब��ी डाल रही थी। मौसी मुःकरा रही थी और रोकी सेकह
रही थीं,"सभी रंिडयाँिबक चुकी हैं १-२ को छोड़कर। भोंसड़ी वािलयों के भी रेट आज
५०० सेउपर लग रहेहैं !"
तभी दो माहक हमारी तरफ आए। मौसी उन्हें लेकर आई थी। मौसी मुझसेबोली,"यह
छोटा खलील और उसके चेलेहैं, पूरेपूना का अन्डरवडर् देखतेहैं। तुम दोनों की चुदाई
और मसलाई दोनों करेंगे। १२ हज़ार देचुके है। चूत चुदवा और जम के मज़ा ले। ऐसा
मज़ा दबु ारा नहींिमलेगा।"
मेरेचूतड़ों पर हाथ फेरतेहुए िपंटूबोला,"तेरी चूत में बहुत खजु ली हो रही हैन ? जा
अभी यह िमटा देंगे। कुितया चल जा चुद और मिःतया !"
छोटा खलील और उसके साथी के साथ हम दोनों सोफों की तरफ बढ़ गईं। दो सोफे
पास पास खाली नहींथे। िपंटूनेएक माहक को उठाकर दसू री साइड में िबठा िदया।
खलील और उसका साथी पहलेभी कोठेपर आ चुके थे। दोनों नेपैन्ट खोल कर
अपनेलौड़ेहम दोनों के हाथ में पकड़ा िदए। थोड़ा मसलनेपर खलील का लौड़ा ८ इंच
लम्बा हो गया। खलील का लंड अच्छा मोटा था। खलील और उसके चेलेनेअच्छे
पैसेिदए थेइसिलए उन पर कोई रोक नहींथी। वो हमारी चूत भी बजा सकतेथे।
खलील मेरी चूत रगड़तेहुआ बोला,"हम पी कम्पनी के गडंु ेहैं अब तक ५६ आदिमयों
को िनपटा चुके हैं। कुितया तूनई आई लगती हैतेरी चूत तो बड़ी माल हैिबलकुल
घरेलूनई बहूकी तरह है। मेरी बीबी भी जब नई थी तो उसकी भी ऐसी ही मःत थी,
साली के अब तो ६ बच्चेहो गए हैं, घुसानेमें मजा ही नहींआता। आज मुझेकुछ
काम हैइसिलए आज तो तेरी चूत का ःवाद चख लेता हूँकल आकर पूरी रात बजाता
हूँ। इतनी हसींचूत तो बॉम्बेकी फाइव ःटार कॉल गल्सर् की भी नहींहोती है। ऐसी
चूत रोज़ रोज़ थोड़ेही िमलती हैतुझेचोदनेमें तो रंडी मज़ा आ जायेगा।"
खलील में काफी ताकत थी वो जोर जोर सेमेरेदधू और िनप्पल्स मसल रहा था और
चूत में ऊँगली कर रहा था उसका लौड़ा िबलकुल लोहेकी रोड की तरह तन गया था।
मुझेलौड़ा उमेठनेमें मज़ा आ रहा था और खलील के लंड सेमिःतया रही थी। मैंने
खलील के होटों पर अपनेहोठ रख िदए और चूसनेलगी थी। उसनेमेरी गांड पर
चुटकी काटी और बोला,"लेजरा लंड राज को चूस !"
मैं घोड़ी बन कर खलील का लंड चूसनेलगी। उसनेअपनी एक ऊँगली मेरी गांड में
डाल दी और आगेपीछेकरनेलगा। साथ ही साथ बुदबुदा रहा था,"कुितया तेरी गांड
तो लगता हैअभी तक मारी ही नहींगई, िबलकुल ताजा माल है।"
थोड़ी देर बाद उसनेमुझेहटा िदया और सोफे सेमुझेगोद में उठाया और िफर सोफे
पर पटक िदया और मेरी दोनों टांगें चौड़ी कर मेरेचूत के मुँह पर अपना लंड रख िदया
और मेरी दोनों चूिचयाँकस कस के मसलतेहुए अपना लंड एक झटके में मेरी चूत में
डाल िदया। मैं जोर सेिचल्ला उठी उईÉ,"मर गई … मर गई मर गई … छोड़ साले
कु��े ! चूत फट गई, बाहर िनकाल ! बहुत ददर् हो रहा है !"
शायद उसेइसमें मज़ा आया। उसनेमेरी चूत और जोर जोर सेफाड़नी जारी रखी।
मेरी बगल में आशा भी चुद रही थी। हाल में २० -२५ बाहर के लोग शो देख रहेथे। वो
रंिडयों का ब्लूडांस कम हमारी चुदाई देखनेका आनंद ज्यादा लेरहेथे। ३-४ धक्कों
के बाद मुझेचुदनेका मज़ा आनेलगा। अभी खलील ने१०-१२ धक्के ही मारेथेिक
आवाज़ आई,"मैं हूँडॉनÉ मैं हूँडॉनÉ"
खलील का फ़ोन बजा था। वो एकदम सेघबरा उठा और फ़ोन उठा कर िघघयातेहुए
बोला,"जी साहब जी साहब अभी आता हूँसाहब …"
उसनेऔर उसके चेल नेअपनेलंड बाहर खींच िलए बोला,"गुरु क्या बात है?
खलील बोला,"पी साहब का फ़ोन था अभी चलना हैएक को िनपटाना है !"
खलील का लंड िबल्कुल डाउन हो गया था, शायद पी साहब का डर बोल रहा था। वो
दोनों तेजी सेबाहर िनकल गए मेरी चूत में वो एक आग लगा गया था।
खलील और उसके चेलेचलेगए थेशो ख़त्म हो गया था। उनके जानेके बाद एक
मुःटंडा परदेके पीछेसेआया और हमें मौसी के कमरेमें लेगया। मौसी दारू पी रही
थी, मौसी बोली,"अरेबड़ी जल्दी बाहर आ गईं? क्या हुआ चुदी नहींक्या?"
सीमा बोली,"सालेलंड छुला कर भाग गए, उनके साहब का फ़ोन आ गया था !"
मौसी बोली,"तुम दोनों नंगी बहुत संुदर लग रही हो ! थोड़ा ऊपर वालेहाल में मटक
लो। २-४ रंिडयाँबच रही हैं वो भी उठ जाएँगी। यह लो पतली लाल साड़ी पहन ले,
इसमें सेजब तेरी चूिचयाँचमकें गी तो ढेर नोट िगरेंगेतेरेऊपर !"
मौसी एक मुःटंडेकी तरफ इशारा कर के िफर बोली,"अरेकालू, जरा इन दोनों को
ऊपर नचा !"
मेरी गांड पर चुटकी काटतेहुऐ मौसी बोली,"जा ! जरा मःत होकर मटक। बड़ा मज़ा
आएगा !"
कालूमुःटंडा हम दोनों को ऊपर लेगया। आशा बोली,"डर नहीं, जैसेमैं करुँ वैसेकर
! कमर और ःतन मटका। बड़ा मज़ा आएगा और रुिकयो नहीं, वनार् सालेमुःटंडेगांड
के अंदर िसगरेट बुझा देतेहैं।"
मैं सोच चुकी थी िक अब रंडी बननेमें ही भलाई है। तीन चार रंिडयाँवहांपर पहलेसे
ही मटक रही थीं। धीर धीरेमैं भी अपनेचूतड़ और चूिचयाँिहलानेलगी कभी नीचे
झुककर कभी साड़ी का पल्लूिगरा कर मैं माहकों को अपनेदधू ों के दशनर् करा रही
थी। मेरेऊपर कुछ नोट १०-१० के िगरे। मैं अब जोर जोर सेअपनेचूतड़ िहला रही
थी। मेरा पल्लूनीचेिगर गया था मेरी नंगी चूिचयाँअब जोरों सेिहल रही थीं। वहां
खड़ेसभी माहक मेरेपर नोट फ़ें क रहेथे। एक मुःटंडेनेपीछेसेआकर मेरी चूिचयाँ
मसली और गोद में उठाकर जाँघों तक मेरी साड़ी उठा दी और माहकों के मुँह के
सामनेमेरी चूत खोल के रख दी। मेरी चूत का दीदार अब सामनेखड़े५- ६ माहक कर
रहेथे। उन्होंनेमेरेऊपर १०-१२ नोट फें क िदए। थोड़ी देर में गानेचलनेबंद हो गए।
सभी रंिडयाँधंधेपर लग चुकी थीं। नाचनेवाली ३-४ रंिडयाँकोनेमें जाकर बैठ गईं।
मुझेपता चल गया था िक यहाँसब लड़िकयाँमौसी की कुितया हैं इस सेज्यादा कुछ
नहीं। मौसी हाल में आयींऔर बोली,"िपंटू, मोनी और इसेमेरेकमरेमें पहुंचा ! बाकी
बची हुई नाचनेवािलयों को धंधेपर लगा दे !"

रात के ११ बज़ रहेथे। मौसी के कमरेमें ए. सी. चल रहा था मैं और मोनी वहांएक
नेकर पहन कर बैठ गई। मौसी आई और वहांलेट गई और हमें अगल बगल में
िचपका कर िलटा मेरेचूतड़ों पर हाथ लगा कर बोली,"अब चुदनेको तैयार हो जा !"
मौसी नेफ़ोन उठाया और बोली,"मोंटी साहब कैसेहो ? कब आ रहेहो? नई रंडी आई
हैइसकी चूत का उदघाटन करवाना है। मोनी कुितया भी तुम्हारा लौड़ा खानेको
बेताब हो रही है !"
कुछ देर बात हुई िफर मौसी नेफ़ोन रख िदया और बोली,"मोंटी साहब आधेघंटेमें
आ रहेहैं, चोद चोद कर तुझेमःत कर देंगे। चल ! तब तक तूमेरी चूत में यह मोटा
केला कर और मोनी मेरी चूिचयाँसहलाएगी !"
मौसी नेमेरेहाथ में एक १० इंच लम्बा और ४ इंच मोटा केला पकड़ा िदया। मौसी की
चूत भोंसड़ा हो रही थी। उनकी चूत में केला िबलकुल िफट बैठ रहा था। मैंनेमौसी की
चूत में केला आगेपीछेकरना शुरू कर िदया। मोनी उनकी चूिचयाँदबा रही थी।
मौसी हल्की हल्की िसःकािरयाँलेनेलगी थी।
मौसी के कमरेमें कुछ हल्लेकी आवाज़ सी सुनाई दी। मौसी नेराजूको बुलाया और
पूछा,"क्या बात है? हल्ला क्यों हो रहा है?"
राजूबोला,"येसीमा है, साली िबकी तो १००० में है, माहक गांड मारना चाह रहा हैतो
लड़ रही है।"
मौसी बोली,"कुितया, एक तो सही रेट पर िबक नहींरही, ऊपर सेआज साली के रेट
ठीक लगेहैं तो कोठेका माहौल ख़राब करती है। तूऐसा कर पहलेमाहक को बुला,
िफर कुितया को नंगी करके भेज और सामनेसीमा बाई के कोठेसेहब्शी को बुला ले।
आज साली की गांड हब्शी सेफड़वाती हूँ !"
राजूनेमाहक को अंदर भेज िदया। मैं और मोनी मौसी की चूत में केला कर रहेथे।
सामनेमौसी चूत चोड़ी कर के लेटी हुई थींमाहक को देख कर मैं रूक गई। मौसी
बोली,,"कुितया रुक क्यों गई अपना काम जारी रख।"
मौसी माहक सेबोली,"अरेसाहब क्यों नाराज हो रहेहो ? मेरेकोठेपर चुदाई का मज़ा
न िमलेऐसा हो ही नहींसकता। टॉप की रंडी दँगू ी, िबलकुल ृी। दोनों छेद फाड़ िदयो
कुितया के।"
मौसी नेराजूसेपूछा,"कोई लोंिडया खाली हुई या नहीं?"
राजूबोला,"शोभा खाली हैइस समय !"
मौसी नेकहा,"शोभा को इसेसौंप और उससेकहना िक मौसी के ःपेशल माहक हैं,
पूरेमजेदेना है, जैसेयेचाहें। चल राजा जा मजेकर और राजूतूसीमा को नंगी कर
के मेरेपास भेज इस को मजा मैं चखाती हूँ।"
राजूऔर िपंटूसीमा को लेआया। सीमा पूरी नंगी थी। मौसी नेहम दोनों को हटाया।
मौसी उठी और उन्होंनेसीमा के गाल पर तीन चार थप्पड़ जड़ िदए और उसेधक्का
देकर नीचेिगरा िदया उसके चूतड़ों पर ४-५ लातें मारी। मौसी िचल्ला रही
थी,"हरािमन रंडी हैतू, सारेछेदों में लंड खाना पड़ेगा तुझेकुितया ! गांड मरवानेमें
नखरेकरती है। आज तेरी इतनी गांड फड़वाती हूँिक तूिजन्दगी भर याद रखेगी !"
सीमा रो रही थी। मौसी मेरी और मोनी की तरफ देखकर बोली,"तुम दोनों राजूऔर
िपंटूके लौड़ेचूस कर खड़ेकरो इस की गांड में घुसवाउंगी। साली िहरोइन बनती है !"
मौसी लकड़ी के डंडेसेसीमा को पीट रही थी। मौसी नेउसके बाल खींचेऔर
बोली,"चल घोड़ी बन। तेरी गांड में लंड डलवाती हूँ !"
सीमा डर के घोड़ी बन गई। मौसी नेउसकी गांड पर ढेर सारा थूक डाल िदया। मौसी
के भयानक रूप सेमैं भी डरी हुई थी और राजूका डर कर लपालप लौड़ा चूसेजा रही
थी। मौसी नेराजूको इशारा िकया और बोली इसकी गांड का छेद चोड़ा कर िफर
हब्शी आ रहा हैउससेफड़वाती हूँ। राजूनेमेरेमँुह सेलौड़ा िनकला और घोड़ी बनी
हुई सीमा की गांड पर लगा िदया और उसकी गांड में अपना मोटा नंगा लंड लगाकर
जोर सेझटका िदया। आधा लंड गांड में घुस गया। सीमा जोर सेिचल्ला उठी,"मर
गई ! उई मर गई ! छोड़ कु��ेछोड़ ! मुझेमत चोद !" लेिकन राजूनेजोर सेलंड उसमें
पूरा ठोंक िदया और अपनेलंड को तेजी सेउसकी गांड में आगेपीछेकरनेलग रहा
था।
थोड़ा िचल्लानेके बाद सीमा िससकारी लेती हुई गांड मरवानेलगी । सीमा की
िसःकािरयाँिनकल रही थीं। मौसी नेराजूसेकहा तूअब लंड िनकाल और इसकी
गांड वाला लंड इसके मुँह में डाल। सीमा के मुँह पर लेजाकर राजूनेअपना लंड रख
िदया लेिकन सीमा मुँह नहींखोल रही थी। मौसी नेिपंटूके मुँह सेिसगरेट लेकर
सीमा की गांड में छुला दी बोली,"कुितया तेरी जसै ेहजारों मैंनेरंडी बना दींऔर तू
िहरोइन बन रही? चुपचाप लंड चूस ! वरना तेजाब सेमँुह और जला दँगू ी !"
सीमा के चीखनेकी आवाज़ नीचेगली तक गई होगी। उसनेमुँह खोल के राजूका लंड
मुँह में लेिलया और चूसनेलगी। इस बीच मौसी नेिपंटूको सीमा की गांड मारनेका
आदेश देिदया। िपंटूएक वफादर कु��ेकी तरह सीमा की गांड मारनेलगा।
सीमा की गांड का ठुकना जारी था तभी एक अृीकन हब्शी कमरेमें आया। मौसी ने
हब्शी को अपनी बाँहों में लेिलया और बोली," राजा मेरेकोबरा ! आज तूइस कुितया
सीमा को बजा ! साली रंडी मेरा कहना नहींमानती।"
मेरी तरफ देखकर मौसी मुझसेबोली," कुितया, जरा मेरेकोबरा का लौड़ा चूस !"
हब्शी का नाम कोबरा था। उसनेअपनी पैन्ट उतार दी। नीचेकुछ पहन नहींरखा था।
उसका ठंडा लौड़ा भी ६ इंच लम्बा होगा पूरा काला लंड था। मैं मौसी का भयानक रूप
देखकर बहुत डरी हुई थी। मैंनेझुककर कोबरा का लौड़ा अपनेमँुह में डाल िलया और
उसेआगेपीछेमुँह कर के चूसनेलगी। थोड़ी देर में ही लंड नेबड़ा िवकराल रूप ले
िलया वो बहुत लम्बा हो गया था और ४ इंच सेजयादा मोटा हो रहा था। मेरा मँुह लंड
सेबुरी तरह भर गया था। लंड १० इंच सेऊपर लम्बा हो रहा था। पूरा मेरेमुँह में नहीं
आ रहा था। कोबरा मेरेचूतड़ दबा रहा था। मुझसेबोला- ऊपर ऊपर चूस तूकुितया
बहुत िचकनी है, तेरा माल िबलकुल ताजा है। कोबरा का लंड ११ इंच लम्बा और ५
इंच मोटा होगा। मैं यह सोच कर काँप रही थी िक अगर इस हब्शी का लंड मेरी चूत में
घुस गया तो मैं तो मर ही जाउंगी ।
मौसी नेकोबरा को बुला िलया और बोली इस सीमा की चूत और गांड बजा ! साली
को बताती हूँरंडी क्या होती है। मौसी नेिपंटूको हटा िदया और सीमा को सीधा खड़ा
कर िदया। सीमा की आँखों के आगेहब्शी का ूचंड लंड लहरा रहा था।
मौसी मुःकरातेहुए बोली,"घुसवानेके िलए तैयार हो जा ! पूरे२० िदन में तूने
२०००० भी कमा के नहींिदए। सोच रही होगी २-३ िदन में दसू रेकोठेपर भाग
जायेगी। कुितया मौसी के कोठेपर धंधा न करनेऔर माहकों को तंग करनेका मज़ा
चखाती हूँ।"
सीमा मौसी के पैरों पर िगर गई," मौसी मुझेमाफ़ करो, मुझेछोड़ दो ! जैसा तुम
कहोगी वैसा करूंगी।"
मौसी कुिटलता सेमुःकरा रही थी। हब्शी नेपीछेआकर सीमा की चूत में लौड़ा लगा
िदया और एक झटके में लौड़ा ३-४ इंच घुसा िदया। सीमा जोर सेिचल्ला उठी- उई
मर गईÉ मर गईÉ मर गई।
लेिकन हब्शी और मौसी मुःकरा रहेथे। हब्शी नेजोर सेझटका मारा और लंड ८-९
इंच अंदर पेल िदया सीमा के चीखनेकी आवाजें तेज हो गई, वो िचल्ला रही थी," मर
गई, मर गई, उई मत चोदो राजा ! लौड़ा िनकालो ! फट गई फट गई उई उई !!!! बहुत
ददर् हो रहा हैछोड़ो ! मुझेछोड़ो! मुझेमत चोदो मर गई मर गई बहुत ददर् हो रहा है।"
मौसी नेमेरेचूतड़ों पर हाथ मारा और बोली,"साली की जब गांड फटेगी तब देिखयो
कैसेरोती हैअभी तो चुद रही हैतब इतना िचल्ला रही है !"
हब्शी नेकस कर सीमा की कमर पकड़ रखी थी और उसको बुरी तरह सेठोंके जा रहा
था। मौसी बोली,"कोबरा, कुितया की गांड़ मार ! आज इस हरािमन की चूत और गांड
दोनों का भोंसड़ा करवा के ही छोडूंगी।"
हब्शी नेलंड बाहर खींच िलया और उसकी गांड पर लंड रख िदया सीमा िचल्ला उठी-
नहींमौसी ! मुझेछोड़ दो नहींÉ नहीं। लेिकन रंडी कब तक खैर मनाएगी और आज
साली का िदन ख़राब था। हब्शी ने३ इंच लंड उसकी गांड में घुसा िदया और उसकी
चूिचयाँकस कस कर मसल दीं। कोबरा पूरा गरम हो रहा था उसनेगांड पर कस कर
झटका मारा और अपना लंड और अंदर उसकी गांड में घुसा िदया। सीमा िचल्ला रही
थी, अभी कोबरा अपना आधा लंड अंदर डाल कर ही सीमा की गांड मार रहा था।
सीमा की ददर् भरी आवाज़ कमरेमें गूँज रही थी। मुझेपता चल गया था िक औरत के
िलए रंडी सबसेबड़ी गाली क्यों होती है.. मुझेसीमा पर दया आ रही थी लेिकन डर के
मारेमैं कुछ नहींकह पा रही थी।
कुछ देर बाद मौसी नेहब्शी सेकहा,"अब इसेछोड़ दे ! अब येकभी माहक से
बद्तमीजी नहींकरेगी।"
सीमा ददर् सेजमीन पर लेट गई। मौसी िपंटूसेबोली,"साली को बाहर खिटया पर
डाल देऔर हकीम को बुलाकर इसकी गांड पर लेप लगवा िदयो ! कुितया साली
िहरोइन बन रही थी।"
हब्शी का लंड लोहेकी रॉड की तरह ११ इंच लम्बा खड़ा हुआ था। मौसी हब्शी सेबोली-
थोड़ा हमारी इस नई कुितया की चूत और गांड पर अपना लंड िफरा दे। मैं डर गई मैं
बोली,"नहींमौसी नहीं ! मेरी चूत में इस राक्षस का लंड मत डलवाओ ! मैं मर जाउंगी
!"
मौसी मेरेचूतड़ों पर हाथ फेरती हुई बोली,"तुझेमरनेथोड़ी दँगू ी ! तूतो दधू देनेवाली
गाय है, अभी तो तुझेचुदनेके िलए भी बैठाना है ! चल जरा झुक तो, बड़ा मजा
आएगा !"
मैं डर के मारेझुक नहींपा रही थी। मौसी नेवहांपड़ी एक लकड़ी उठाई और जोरों से
मेरेचु��ड़ों पर मारी और गुरार्कर बोली,"कुितया घोड़ी बनती हैया नहीं?"
हब्शी मुःकरा रहा था। मैं मौसी के डर सेझुक गई। मेरा बदन पूरा पसीनेपसीनेहो
रहा था। हब्शी नेपीछेसेआकर मेरी चूिचयाँअपनेहाथों मैं पकड़ लींऔर धीरेधीरे
मसलनेलगा। उसका मोटा लंड मेरी चूत पर िफर रहा था। उसनेआधा इंच लंड का
सुपाड़ा मेरी चूत में घुसा िदया। मेरी आँखों के आगेतारेघूम गए। मैं जोर सेिचल्ला
उठी,"उई उईÉ. उई मर गईÉ. मर गईÉ.."
मौसी नेहब्शी को उठा िदया और बोली- साली की फट गई तो रेट अच्छेनहींिमलेंगे
! तूऐसा कर, इसकी गांड पर लंड िफरा। हब्शी अपनेहाथ सेलंड पकड़ कर मेरी गांड
में िफरानेलगा अचानक सेमेरी गांड में कुछ घुसा, मैं जोर सेिचल्ला उठी- उई मेरी
फट गई। सब लोग जोरों सेहंस पड़े, मौसी बोली,"कुितया चल उठ !"
मैंनेउठकर देखा तो मौसी एक पतली मोमब��ी िलए खड़ी थींिजसेउन्होंनेमेरी गांड
में डाल िदया था। मौसी बोली,"अब असली धंधेके िलए तैयार हो जा रंडी। तुझेमैं
खास माहकों सेचुदवाऊँगी ! अगर नखरेिकयेतो हब्शी का लंड सीमा की तरह तेरी
गांड और चूत में घुसेगा !"
मैं समझ गई िक मौसी नेयह नाटक इसिलए िकया था तािक मैं अब चुदतेसमय
नखरेन करुँ।
मौसी बोली- कोबरा मेरेराजा ! थोड़ा मुझेचोद दे ! अब तो बस तेरेलौड़ेसेही चुदवाने
में मजा आता है। मौसी पलंग पर लेट गई और अपनी दोनों टाँगें फ़ैला दीं। मौसी की
चूत अंदर तक खुली िदख रही थी। हब्शी नेआगेबढ़कर अपना लौड़ा मौसी की चूत
में पेल िदया और मौसी को चोदना शरू कर िदया। कोबरा का लंड इतना तगड़ा था िक
मौसी भी हलके हलके िससकारी लेरही थींऔर िचल्ला रही थी," राजा मजा आ गया
! और चोद जोरों सेचोद मेरेशेर ! तेरेसेही चुदनेमें मजा आता हैअब ! चोद ! मादर
चोद चोद ! बहुत मजा आ रहा है।"
मैं और मोनी मौसी की साइड में लेटकर मौसी के बूब्स दबा रहेथे। कोबरा १५ िमनट
तक मौसी की चूत चोदता रहा। मौसी बोली,"राजा, अपनेलंड का रस मेरेमुँह में
िपलािययो ! क्या मःत लौड़ा हैतेरा कु��े !"
हब्शी मौसी को जोर जोर सेधक्के मार रहा था कुछ देर बाद हब्शी नेअपना लौड़ा
िनकाल िलया और मौसी के मुँह पर जाकर दो झटके मारे, मौसी नेपूरा मुँह खोल
िदया, हब्शी के गाढ़ेवीयर् नेमौसी के मुँह को पूरा भर िदया। मौसी नेइशारेसेकोबरा
को मेरेऔर मोनी के मुँह में भी लंड रस डालनेको कहा।
हम दोनों मौसी की कुितया थी ही। मैंनेऔर मोनी नेअपनेमुँह खोल िदए। कोबरा ने
मेरेऔर मोनी के मुँह भी अपनेवीयर् सेभर िदए। मौसी लपालप उसका पूरा रस पी
गई। मैंनेऔर मोनी नेलंड रस िमल्क शेक की तरह मुँह में लेिलया। मुझेहब्शी के
लौड़ेका रस बहुत ःवािद�� लगा। इसके बाद मौसी नेअपनेचेहरेपर िगरा हुआ रस
भी हम दोनों सेचटवाया।
मौसी उठी और हब्शी को गलेसेलगा कर बोली- राजा तूनेमःत कर िदया ! और
उन्होंनेअपनेपलंग के नीचेसेिनकाल कर १००० रु हब्शी को पकड़ा िदए और बोली-
लेराजा तेरा इनाम !
हब्शी बोला- मौसी गांड तो नहींमरवानी?
तो मौसी बोली,"कु��े, मौसी सेमजाक मत करा कर ! वनार् सालेचरस जेब में डाले
घूमता रहता है, अभी जेल में डलवा दँगू ी !"
कोबरा मौसी के पैरों में िगर पड़ा और बोला,"मौसी मुझेमाफ़ करना, तूतो मेरी माँ
जैसी है।"
मौसी कुिटल मुःकराहट सेबोली,"मादरचोद ! अब तूचुपचाप यहाँसेचला जा !"
थोड़ी देर बाद राजूअंदर आया और बोला- मौसी मोंटी साहब आ गए हैं, ऊपर कमरेमें
बैठेहैं।
मौसी बोली,"चल अब चुदनेको तैयार हो जा ! अभी १२ बजनेको हैं अब पूरी रात
चुदवाईयो। बहुत अच्छी चूत बजातेहैं मोंटी साहब।"
मौसी नेएक ट्यूब िनकल कर मेरी चूत में डालकर िपचका दी और बोली,"चल उलटी
हो एक तेरी गांड में िपचका देती हूँ, चुदनेमें ददर् कम होगा।"
मौसी नेमुझेउल्टा िकया और दसू री ट्यूब मेरी गांड के अदं र डालकर िपचका दी और
अपनी उँगिलयों सेमेरेदोनों छेदों की मािलश कर दी। मुझेऔर मोनी को एक एक
पतली मैक्सी पहना दींऔर बोली,"चलो अब अपनेसेठों के पास जैसा मैंनेबताया है
वैसा करोगी तो मज़ेकरोगी नहींतो दोनों के चूतड़ मार मार कर लाल कर दँगू ी और
हब्शी का लंड तुम दोनों की गांड और चूत में डलवाऊँगी !"
सािथयों ! मौसी नेमुझेकोठेकी रंडी बना िदया। आपकी प्यारी ने चूत और गांड फ़डवा कर भोसड़ी बना दी।
हालांिक यह कहानी काल्पिनक हैपर मुझेयकीन हैआपको जरुर पसंद आई होगी।
आपको यह कहानी कैसी लगी मेल करें।

1 comment: